पुलिस हिरासत में गोली मारने वाले शुभम की मौत कटघरे में पुलिस

 11 Jun 2020 01:28 AM  5

जबलपुर ।  ईनामी आरोपी शुभम बागरी की मंगलवार-बुधवार की रात निजी अस्पताल में मौत हो गई। पुलिस कस्टडी में शुभम ने सिविल लाइन थाने के सामने खुद के सिर पर गोली मार ली, वह पिस्टल छिपाए हुए था, ऐसा सायबर सेल की टीम का कहना है, हालांकि इस मामले में आईजी ने पूरी टीम को निलंबित कर दिया है, लेकिन आरोपी शुभम की मौत कई सवाल खड़े कर रही है, जिसकी जद में पुलिस का कथित आॅपरेशन कटघरे में है। जानकारी के अनुसार अब पूरे मामले न्यायिक जांच कराई जा रही है। ऐसे में यह बात भी सामने आ रही है कि शुभम के परिजनों ने पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप भी लगाया है। वहीं शुभम की मौत के बाद शव को देर रात पीएम के लिए मेडिकल भेजा गया है। मेडिकल में डाक्टरों ने पैनल ने परिजनों की उपस्थिति में वीडियोग्राफी के साथ पोस्टमार्टम करते हुए शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

सुलगते सवालों के नहीं जवाब

साइबर टीम ने आॅपरेशन में थाने की टीम को शामिल क्यों नहीं किया?

पूरे आॅपरेशन की अधिकारियों से अनुमति क्यों नहीं ली गई थी?

आरोपी की विजय नगर में पूरी तलाशी क्यों नहीं ली गई?

इनामी आरोपी को बिना तलाशी लिए क्यों घूमती रही टीम?

मृतक के परिजनों ने क्यों लगाए पुलिस पर प्रताड़ना के आरोप ?

अब ऐसे हो सकती है जांच

सायबर की टीम के एक-एक सदस्य के निजी बयान लिए जाएंगे।

मुखबिर की सूचना किसे मिली, टीम को कौन लीड कर रहा था।

पिस्टल लिए था तो तलाशी क्यों नहीं ली, ली तो वो क्यों नहीं मिली।

विजय नगर से सिविल लाइन तक रास्ते का घटनाक्रम क्या रहा।

अपर सत्र न्यायाधीश करेंगे पूरे मामले की जांच।

छावनी में तब्दील हनुमानताल

वहीं मृतक के निवास खेरमाई मंदिर के पास बुधवार को सुबह से ही आला पुलिस अधिकारियों के नेतृत्व में पुलिस बल तैनात रहा। इस दौरान पुलिस ने चप्पे- चप्पे पर निगरानी बढ़ाई और सभी पर नजर रखी।

गिरफ्तारी के बाद तफ्तीश में लापरवाही पर टीम को सस्पेंड किया गया है। इस मामले की ज्यूडियल जांच की जा रही है। भगवत सिंह चौहान, आईजी, जबलपुर