निर्देशों की धज्जियां सोशल डिस्टेंसिंग का भी नहीं हो रहा पालन

निर्देशों की धज्जियां सोशल डिस्टेंसिंग का भी नहीं हो रहा पालन

जबलपुर । शहर में अनलॉक का तीसरा दिन भी अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ा दिखा। प्रशासन के द्वारा दी गई छूट में नियमों का पालन करने की स्पष्ट हिदायत के बावजूद दुकानदार इन्हें पलीता लगाने में कहीं से पीछे नहीं हैं,और तो और ग्राहक भी इस अव्यवस्था में बराबर सहभागी बने हुए हैं। ऐसे में अंदेसा है कि कहीं प्रशासन एक बार फिर सख्त निर्णय लेने पर विवश न हो जाए। दी गई छूट में स्पष्ट हिदायत है कि दुकान के सामने ग्राहकों से सोशल डिस्टैंसिंग का सख्ती से पालन करवाया जाए। चाय,पान व नाश्ते की होटलों में सोशल डिस्टैंसिंग के साथ साफ-सफाई का ध्यान रखा जाए। दुकान के सामने दुकान किसी सूरत में न लगने दी जाएं। वहीं दुकानों के सामने वाहन खड़े किए जाने पर भी प्रतिबंध बताया गया है,मगर इनमें से एक भी चीज का पालन नजर नहीं आ रहा है।

आर्थिक गतिविधियां सुचारू करने मिली है छूट

विगत ढाई माह से लगे लॉक डाउन में निम्न वर्ग हो या व्यापारी वर्ग सभी के कारोबार व कामकाज बंद रहने से लोगों के सामने आई जीवन यापन की समस्या का निदान करने के लिए ही शासन ने यह छूट दी है। देखने में आ रहा है कि लोग नियमों का पालन बिलकुल नहीं कर रहे हैं। दो पहिया वाहनों में तीन सवारी आम देखी जा रही हैं। आटो में चालक के साथ पीछे केवल 2 लोगों की अनुमति है मगर लोग मनमानी करते हुए भरपूर सवारियां भरने लगे हैं। चार पहिया वाहनों में भी क्षमता अनुसार लोग आ-जा रहे हैं।

पुलिस ने भी कम किया दखल

शहर में दी गई छूट के कारण पुलिस की भूमिका भी अब सीमित हो गई है। हालाकि नियमों का पालन करवाया जाना चाहिए मगर भीड़ के आगे पुलिस भी बेबस नजर आ रही है। उसकी भूमिका केवल साढ़े 8 बजते ही मार्केट बंद करवाने तक सीमित रह गई है। यहां तक कि चौराहों व मुख्य स्थलों पर रात 9 से सुबह 5 बजे तक जारी कर्फूय में भी अब पुलिस नजर नहीं आ रही है।