कोई रिश्तेदारों से मिलने 3 सवारी घूमते मिला तो किसी ने कहा घर से नहीं निकलना है

कोई रिश्तेदारों से मिलने 3 सवारी घूमते मिला तो किसी ने कहा घर से नहीं निकलना है

जबलपुर । कोई रिश्तेदारों से मिलने तफरीहन मूड में मोटर साइकिल में तीन सवारियां बैठाकर घूम रहा था तो कोई महज घूमने के लिए ही निकल पड़ा। लॉक डाउन की सबको जानकारी रही मगर इसके बाद भी इनका हौसला गजब का रहा। हालाकि ऐसे लोगों को पुलिस की सख्ती का शिकार भी बनना पड़ा। वहीं कई ऐसे लोगों से भी बातचीत की गई जिन्होंने लॉक डाउन का न सिर्फ पालन किया बल्कि आसपास वालों को समझाने में भी आगे रहे कि घर से बाहर नहीं निकलना है। तीसरे रविवार के लिए भी जिला प्रशासन ने लॉक डाउन के लिए नियम-कायदे पहले ही बता दिए थे। केवल दूध,दवा,गैस के लिए ही दुकानों को खोलने की छूट थी। बाहर से आने वाले यात्रियों को रेलवे टिकट के आधार पर टैक्सी,आॅटो के लिए छूट दी गई थी। हालाकि मालवीय चौक पर धड़ल्ले से शराब की दुकानें खुली रहीं। इन्हें किसने अनुमति दे दी यह सवाल जरूर है।

बरकरार रही पुलिस की सख्ती

तफरीहन घूमने वालों पर पुलिस की सख्ती बरकरार रही। आम दिनों में भी जब दो पहिया वाहन मेंडबल सवारी तक की अनुमति नहीं है तो लॉक डाउन में 3 सवारियों के साथ घूमते लोगों पर कार्रवाई की गई। हर किसी से घर से बाहर निकलने का कारण पूछा गया जिन्होंने वाजिब वजह बतार्इं उन्हें जाने दिया गया मगर जिन्होंने उचित कारण नहीं बताया उन पर सख्ती बरती गई और कार्रवाई कर उन्हें लौटना भी पड़ा। इस बीच कुछ को पुलिस से बहस करना भी भारी पड़ा और उन्हें डंडे भी खाने पड़े। रविवार का लॉक डाउन सफल रहा और शहर बंद नजर आया। ज्यादातर लोगों ने आदेश को माना