पथ विक्रेता पंजीयन शहरी सीमा में ही हुए साढ़े 82 हजार

पथ विक्रेता पंजीयन  शहरी सीमा में ही हुए साढ़े 82 हजार

जबलपुर । लॉक डाउन के बाद प्रवासी मजदूरों की आर्थिक स्थिति सुधारने के साथ शहर के स्ट्रीट वेन्डर यानि पथ विक्रेताओ को शासन की योजनाओं का लभ देने जिसमें मुख्य रूप से रोजगार देना व आर्थिक सहायता के नाम पर 10 हजार रुपए खातों मे दिए जाने के लिए शहर सीमा में ही 82 हजार 527 पंजीयन हो चुक हैं। इनमें से 76 हजार601 को पंजीयत भी कर लिया गया है मगर 6 हजार 385 का पंजीयन अभी कन्फर्म होना बाकी है। लोगों में यह धारणा बनी है कि सरकार 10 हजार रुपए इस योजना में पंजीयत हितग्राहियों को देगी और इसे बाद मे माफ भी कर देगी लिहाजा इस 10 हजार के लिए कई पात्रों की लार भी टपक रही है और उन्होंने अपने प रिवारों के अपात्र होने के बावजूद पंजीयन करवा लिया है। ऐसे सभी हितग्राहियों की जांच नगर निगम की टीमें करना शुरू कर रही हैं। नगर निगम के अपर आयुक्त रोहित सिंह कौशल ने बताया कि पंजीयन हो चुके हैं और अब इनकी जांच करवाई जाएंगी।

ननि करवा रहा प्रवासी मजूदरों को फोन

इस बीच शासकीय योजना शाखा के द्वारा ननि में पंजीयन करवाए हुए प्रवासी मजदूरों से उनके मोबाइल या फोन नंबरों पर संपर्क कर पूछा जा रहा है कि आपको यदि काम उपलब्ध करवाया जाता है तो क्या वे काम करेंगे। प्राय: सभी का जवाब हां मे होता है। गौरतलब है कि इन्हें नगर निगम 9 हजार रुपए मासिक पर विभिन्न क्षेत्रों में चल रहे निर्माण कार्यों में काम देने की योजना बनाए हुए है।