सुरेन्द्र का नाती भी आया पॉजिटिव, परिवार की लापरवाही ने बढ़ाई प्रशासन व पुलिस की चिंता

सुरेन्द्र का नाती भी आया पॉजिटिव, परिवार की लापरवाही ने बढ़ाई प्रशासन व पुलिस की चिंता

जबलपुर । सराफा निवासी 71 वर्षीय सुरेन्द्र सोनी के बाद सोमवार को उसके नाती 9 वर्षीय आकर्षण सोनी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। सोनी परिवार के संक्रमण मामले में मुख्य तौर पर उनके परिवार की लापरवाही सामने आई है। सुरेन्द्र सोनी सहित पूरी परिवार ने जमकर लापरवाही की है और अब कॉन्टेक्ट हिस्ट्री बताने में उन्हें पसीना आ रहा है। समुदाय की इस तरह की लापरवाही ने प्रशासन व पुलिस की चिंता बढ़ा दी है। जिसके मद्देनजर कलेक्टर ने खासतौर से सराफा कोतवाली तथा अन्य सभी 8 कन्टेनमेंट एरिया में सख्ती बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। शाम की ब्रीफिंग के दौरान कलेक्टर ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन जारी रहने के भी संकेत दिए हैं। जानकारी के मुताबिक सोमवार को कुल 44 सैंपल जांच के लिए आईसीएमआर भेजे गए थे, इनमें से 18 सैंपल सुरेन्द्र सोनी के परिजनों तथा नजदीकियों के थे, 17 की रिपोर्ट निगेटिव आईं है और नाती आकर्षण के पॉजिटिव आने के बाद उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में देर रात शिफ्ट कर दिया गया है। इसके पूर्व शाम को मेडिकल कॉलेज से भेजे गए 3 सैंपल में 2 निगेटिव थे तथा तीसरे को अंडर प्रोसेस रखा गया था जो बाद में निगेटिव बताया गया है।

43 को किया सूचीबद्ध

प्रशासन ने सुरेन्द्र के 43 नजदीकियों को सूचीबद्ध कर लिया है। इनमें से 18 के सैम्पल जाँच के लिए भेजे गए हैं। कन्टेनमेंट एरिया से पहले भी 23 सैम्पल भेजे जा चुके हैं। सुरेन्द्र की पॉजिटिव उपस्थिति ने कम्युनिटी स्प्रेड की संभावनाओं को बल दिया है।

10 ड्रोन कैमरों में कैद किए जाएंगे

लॉकडाउन तोड़ने वाले एसपी अमित सिंह ने बताया कि लॉक डाउन की अवधि में क्षेत्रों को चिन्हित कर लिया गया है और इसी आधार पर पुलिस अब गोपनीय तरह से उन स्थानों पर दबिश देगी, जहां ज्यादातर लोग भीड़ लगाकर लॉकडाउन का उल्लघंन कर रहे हैं। ऐसे लोगों को 10 ड्रोन कैमरों की मदद से कैद किया जाएगा और उसके बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

16 मार्च के बाद नहीं आए जमाती

कलेक्टर श्री यादव ने स्पष्ट किया कि नागपुर में जो जमाती पॉजिटिव पाए गए हैं, वह खबर सही है लेकिन वे 16 मार्च को यहां से निकले हैं और फिर वापिस नहीं लौटे हैं। उनका संक्रमण भी नागपुर में हुआ है और इलाज भी वहीं चल रहा है। यहां उनके संबंधी व परिजनों को क्वारेंटाइन करने के निर्देश दिए गए हैं। मोबाइल लोकेशन के आधार पर 132 जमातियों की सूची को आइडेंटिफाई कर लिया गया है और उनका जबलपुर से कोई चिंताजनक कनेक्शन नहीं मिला है।

गुहा व सोनी पर मामला दर्ज

कलेक्टर भरत यादव के निर्देश पर आरआई राजेन्द्र पटवा तथा आजाद पटेल ने सोनी परिवार की जानकारी जुटाई और लापरवाही पाए जाने पर सुरेन्द्र सोनी पुत्र अकाश तथा विकास के खिलाफ धारा 188 के तहत अपराध पंजीबद्ध कराया है। इसी तरह तहसीलदार गोरखपुर एसएस आनंद की रिपोर्ट पर ओ ए गुहा के खिलाफ धारा 188, 269 तथा 270 का अपराध पंजीबद्ध किया गया है। ये दोनों ही मामले कोतवाली तथा गोरखपुर थाने में पंजीबद्ध हुए हैं।

सोनी परिवार की स्ट्रिी पता करने दिनभर चली मशक्कत

सुरेन्द्र सोनी को लेकर सोमवार के पूरे दिन प्रशासन मंथन व मशक्कत करता रहा। जिसमें पाया गया कि पूरा परिवार लॉकडाउन तथा कर्फ्यू के तमाम प्रतिबंधों को लगातार नजरअंदाज करता रहा है। फरवरी में सुरेन्द्र की पत्नी का देहांत हुआ, बाहर से रिश्तेदार आए, उनका जमावड़ा आज तक लगा हुआ है। सुरेन्द्र के बच्चे भी लगातार बेधड़क घूम रहे हैं। ऐसी स्थिति में उसके संक्रमण का पता करना भी मुश्किल हो रहा है। 24 मार्च को सुरेन्द्र में सिमटम सामने आए तो कभी वो मन्नूलाल अस्पताल तो कभी मेडिकल कॉलेज अस्पताल घूमता रहा। कलेक्टर भरत यादव ने उक्त स्थितियों पर कहा कि प्रशासन की निश्चित तौर पर परेशनी बढ़ गई है। सुरेन्द्र की मुलाकात मुकेश अग्रवाल के किसी कर्मचारी से हुई होगी? पर फिलहाल ये अभी पहेली ही बना हुआ है।