परिजनों को कमरे में बंद कर किशोरी का किडनैप कर ले गया किशोर

kidnap

परिजनों को कमरे में बंद कर किशोरी का किडनैप कर ले गया किशोर

ग्वालियर।  बहोड़ापुर थाना इलाका निवासी एक किशोर अपने घर के पड़ोस में रहने वाली किशोरी के परिजनों को कमरे में बंद कर उसका किडनैप कर ले गया। पीड़ित परिवार के मुताबिक बीती दो मई को भी आरोपी द्वारा अपने साथियों के साथ मिलकर उनके घर पर फायरिंग की गई थी, जिसकी रिपोर्ट दर्ज करवाने पर पुलिस आरोपी को पकड़कर भी ले गई थी, लेकिन सुबह ही उसे छोड़ दिया गया, जिसके बाद अब वह हमारी बिटिया का अपहरण करके ले गया। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने अपहरण का प्रकरण दर्ज कर आरोपी तथा किशोरी की तलाश शुरू कर दी है। सागर ताल स्थित सरकारी मल्टी में रहने वाले रामानुज शर्मा चने का ठेला लगाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। बीती रात डेढ़ बजे के लगभग उन्हीं की मल्टी में रहने वाले ट्रक ड्राइवर दीपक तोमर का 17 वर्षीय पुत्र नितिन विगत् कुछ दिनों से उनकी 16 साल की बेटी के साथ छेड़छाड़ कर रहा था, जिस पर बीती दो मई को रामानुज के 14 वर्षीय बेटे की नितिन से कहा-सुनी हो गई थी, जिसके चलते उसी रात को नितिन ने अपने चार-पांच साथियों के साथ मिलकर कट्टों से उनके घर पर फायरिंग कर दी। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने मौके से चले हुए कारतूस बरामद करने के साथ ही आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन अगली सुबह ही उसे छोड़ दिया गया। इसके बाद रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात रामानुज के घर में घुसकर जबरन उसकी बेटी का अपहरण करके एक्टिवा पर बैठाकर ले गया, तथा रामानुज व उसके परिवार को कमरे में बंद कर दिया। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज कर किशोरी व उसकी तलाश शुरू कर दी है। आरोपी तथा अपहृता के बीच प्रेम प्रसंग की जानकारी मिली है, चूंकि आरोपी नाबालिग है, इसलिए कानून के दायरे में रहकर ही पूर्व में उसके खिलाफ कार्रवाई की गई थी, अब फिर उसके खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज कर तलाश शुरू कर दी गई है। नागेंद्र सिंह सिकरवार सीएसपी, ग्वालियर सर्किल नाबालिग आरोपी ने अगर अपराध किया है, तो उसे जेजे कोर्ट में पेश किया जाना चाहिए था, आगे का निर्णय वहीं होता है। अब जब किशोरी लौटकर आएगी, तो पुलिस द्वारा उसे सीडब्ल्यू के समक्ष पेश किया जाना चाहिए।

पुलिस ने मनमाने ढंग से दर्ज की एफआईआर
अपहृत किशोरी के पिता रामानुज शर्मा ने पुलिस पर मनमाने ढंग से एफआईआर दर्ज करने का आरोप लगाया है। रामानुज के मुताबिक नितिन ने रात को उसका गेट बजाया, जब उसकी पत्नी ने गेट खोला, तो नितिन व उसके साथियों ने उन पर कट्टा अड़ा दिया, तथा हम सबको कमरे में बंद करके जबरन हमारी बिटिया का अपहरण करके ले गए। पुलिस को इस बारे में बताया, लेकिन उसने हमारी बात नहीं मानते हुए अपने हिसाब से एफआईआर लिखी है। वहीं पीड़िता पिता का कहना है, कि पूर्व में ही यदि पुलिस आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर देती, तो संभवत: अब वह इस तरह का दुस्साहस नहीं करता।