नर्सिंग कॉलेज फाइनल ईयर के दो हजार छात्र बुलाए जाएंगे

Two thousand students of nursing college final year will be called

नर्सिंग कॉलेज फाइनल ईयर के दो हजार छात्र बुलाए जाएंगे

ग्वालियर कोरोना संक्रमण से जिले को सुरक्षा की चादर ओढ़ाने के लिए सभी सेवानिवृत्त करीब 150 चिकित्सकों को बुलाने पर विचार किया जा रहा है। इसी तरह सरकारी और निजी नर्सिंग कॉलेज में फायनल ईयर में अध्ययनरत मेल और फीमेल दो हजार करीब नर्सेज को भी तलब किया जा सकता है। जिला प्रशासन इन दोनों महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर गंभीरता से विचार कर रहा है। अगर ग्वालियर में संक्रमण का खतरा बढ़े तो पहले से ही अपनी तैयारियों को पुख्ता करने के लिए कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने पहली फुर्सत में सभी सेवानिवृत्त रहे चिकित्सक और निजी क्षेत्र में कार्यरत चिकित्सकों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए चल रही तैयारियों में उपयोग किया जा सकता। इसी तरह निजी क्षेत्र के चिकित्सक भी ड्यूटी पर तलब हो सकते हैं। ऐसे सभी 150 चिकित्सकों की जरूरत महसूस की जा रही है। नर्सिंग कॉलेजों के हॉस्पिटल भी होंगे क्वांरेटाइन जिले भर में 70 नर्सिंग कॉलेज हैं और प्रत्येक के पास 100 बेड़ होंगे। जिला प्रशासन को इन सभी हॉस्पिटल को क्वांरेटाइन सेंटर के रूप में अधिगृहीत कर लेना चाहिए। इससे इन कॉलेजों का फजीबाड़ा भी उजागर हो जाएगा। क्योंकि 80 फीसदी कॉलेजों के पास हॉस्पिटल ही नहीं हैं। बिना हॉस्पिटल के इन्होंने अनुमतियां ले रखी हैं। सूत्रों का कहना है कि दस फीसदी कॉलेजों ने हॉस्पिटल न होने के कारण अनुमतियां सरेंडर भी की हैं। भविष्य की आशंकाओं के चलते हमने सभी सेवानिवृत्त और निजी क्षेत्र के चिकित्सकों से ड्यूटी लेने पर विचार किया है। साथ ही सभी नर्सिंग फायनल ईयर के छात्रों को भी नर्सिंग की ड्यूटी के लिए बुलाया जा रहा है।