बेकाबू टिड्डी दल ने प्रदेश में अंडे देना भी किए शुरू

बेकाबू टिड्डी दल ने प्रदेश में अंडे देना भी किए शुरू

 भोपाल । टिड्डी दल मध्यप्रदेश में अब तक तीन दर्जन जिलों को अपनी चपेट में ले चुका है । लेकिन इसे मारने के लिए अभी तक ड्रोन से कीटनाशकों के हवाई स्प्रे की शुरूआत नहीं हो सकी है जबकि बीते 27 मई को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा था कि टिड्डी दल नियंत्रण में नहीं आने पर हवाई स्प्रे किया जाएगा मई में पश्चिम मध्य प्रदेश से टिड्डी दल ने हमला शुरू किया था। इसके बाद मालवा, निमाड़, मध्य भारत, नर्मदांचल के बाद बुंदेलखंड की ओर बढ़ गया है। उससे पहले विन्ध्य और चंबल इलाके में भी कई गांवों को अपनी चपेट में ले चुका है।

खात्मे के लिए पुराने तरीके

टिड्डी दल को खत्म करने के लिए परंपरागत तरीके अपनाए जा रहे हैं। इसके तहत कृषि विभाग और केंद्रीय लोकस्ट कंट्रोल आॅर्गनाइजेशन की टीम टिड्डी दल पर नजर रखती है और जहां पर भी रात्रि विश्राम होता है वहां पर फायर फाइटर से कीटनाशकों का छिड़काव किया जाता है।

 नुकसान पूरा, सर्वे अधूरा

टिड्डी दल से मूंग, उड़द के साथ ही सब्जियां और फलों की फसल प्रभावित हुई है। आंकड़ों के अनुसार 15 से 16,000 हेक्टेयर में मौसमी फसल को नुकसान पहुंचा है। इसका सर्वे करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने जून माह की शुरूआत में ही दे दिए थे।

हवाई स्प्रे का पता करवाते हैं

टिड्डी नियंत्रण के लिए सारे जिलों में कृषि विभाग की टीम अलर्ट पर है। लगातार कीटनाशक का छिड़काव करने के साथ ही निगाह रखी जा रही है। हवाई स्प्रे के बारे में पता करवाते हैं और अगर इसमें किसी की देरी यह लापरवाही निकलती है तो जिम्मेदारी भी तय होगी कमल पटेल,मंत्री, कृषि विभाग