गढ़ा से वर्चुअल सीलिंग की शुरूआत, भीड़ को नियंत्रित करने नई कवायद

गढ़ा से वर्चुअल सीलिंग की शुरूआत, भीड़ को नियंत्रित करने नई कवायद

जबलपुर । लॉक डाउन और कर्फ्यू के इस दौर में लोग जरूरत के सामान को जमा करने दूसरे वार्डों में जाकर जमकर खरीदी कर रहे हैं। किराना या सब्जी सहित अन्य जरूरत की दुकानों पर लगने वाली भीड़ से राहत न मिलने पर जिला प्रशासन के एक एसडीएम ने अनोखी शुरूआत की है। गोरखपुर एसडीएम आशीष पांडे ने गढ़ा क्षेत्र के वार्डों में जो जिस वार्ड का है उसी वार्ड में जरूरत का सामान खरीदे इसके लिए वर्चुअल सीलिंग की शुरूआत की है,इस पहल को प्रशासन शहर के अन्य वार्डों में भी अपना सकता है। श्री पांडे के अनुसार गढ़ा जोन में हर वार्ड में नागरिक दूसरे वार्ड में प्रवेश न करें इसके लिए दैनिक जरूरतों की सामग्री की आपूर्ति उन्हीं के वार्डों से सुनिश्चित की गई है। लोगों से घरों में रहने की अपील किए जाने के साथ दूसरे वार्डों की सीमा में प्रवेश से रोकने के लिए स्थानीय स्वयंसेवकों की टीमें भी तैनात की गई हैं। श्री पांडे के अनुसार वर्चुअल सीलिंग की इस व्यवस्था के तहत नागरिकों को कोरोना वायरस केस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के उपायों के प्रति जागरूक करने के साथ अलग-अलग तरह के पोस्टर भी वार्डों की सीमाओं एवं सार्वजनिक स्थलों पर लगाए गए हैं। यहां सड़क पर सब्जियों और फल की लगने वाली दुकानों को खुले मैदानों में शिफ्ट कर दिया गया है। हाथ ठेलों के माध्यम से घर-घर सब्जियां लोग ले सकें यह व्यवस्था भी चालू कर दी गई है। दवाईयां,दूध, राशन,किराना एवं उचित मूल्य राशन वितरण कीदुकानों पर लोगों की भीड़ न लगे इसके लिए वालंटियर्स को तैनात किया गया है। जरूरत की इन सामग्रियों की होम डिलीवरी करने वाली दुकानों की भी सूची बनाई गई है। व्यवस्था कुछ इस तरह की गई है कि रोजमर्रा की वस्तुओं की खरीद के लिए लोगों को दूसरे वार्ड की सीमा में प्रवेश ही न करना पड़े।

नगर निगम के जोन क्रमांक 1 गढ़ा के वार्डों की वर्चुअल सीलिंग की यह व्यवस्था सीएसपी रोहित केशरवानी और नगर निगम की संभागीय अधिकारी अंकिता जैन के साथ विस्तृत विचार विमर्श के बाद तैयार की गई है। ऐसी व्यवस्थाएं की गई हैं कि लोगों को अपनी जरूरत का सामान लेने दूसरे वार्ड की सीमा में जाना ही न पड़े। -आशीष पांडे, एसडीएम,गोरखपुर संभाग।