हाउडी मोदी से नमस्ते ट्रंप तक मोदी की विदेशों में धाक

 17 Sep 2020 01:35 AM  33

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहले के मुकाबले काफी बढ़ी है। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने जैसे गंभीर मसले पर विदेशी नेताओं और तमाम वैश्विक मंचों से मिला समर्थन भी यह दर्शाता है कि उनके नेतृत्व में दुनियाभर में भारत की धाक बढ़ी है। आज दुनिया भर में भारत की आवाज प्रभावी तरीके से सुनी जा रही है। वहीं मोदी का पिछले साल 22 सितंबर को अमेरिका के ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में हुआ ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम और इस साल 24 फरवरी को गुजरात के अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम से दोनों देशों के रिश्ते और मजबूतहुए हैं। वहीं भारत ने रूस से भी दोस्ताना रिश्ता हमेशा बनाए रखा, जिससे भारत की सैन्य शक्ति मजबूत हुई है। वहीं इजरायल जैसा शक्तिशाली देश आज हमारे साथ खड़ा है, यह पीएम मोदी की पहल का ही नतीजा है।

 युवाओं में भी लोकप्रिय हैं मोदी

 विकास  का एजेंडा, सामाजिक समीकरणों और सियासी मुद्दों के अलावा युवाओं के बीच क्रेज मोदी की सफलता का बड़ा कारण है। 2014 में युवाओं के बीच अपनी लोकप्रियता से प्रचंड जीत हासिल कर मोदी केंद्र की सत्ता में आए थे। सत्ता में आने के बाद मोदी ने रेडियो के जरिए लोगों से ‘मन की बात’ की और लोगों से सीधे जुड़ गए।

फिटनेस मंत्र: सुबह 4 बजे उठते हैं

इस उम्र में भी 24 घंटे में 18 घंटे काम करने वाले, लंबी यात्राएं कर लगातार रैलियों में जोशीले अंदाज में भाषण देने वाले मोदी की फिटनेस की दुनिया कायल है। उनकी तरोताजगी का राज है- पीएम मोदी का सुबह चार बजे उठना। सुबह उठने के बाद वह योग, सूर्य नमस्कार और मेडिटेशन जरूर करते हैं।

 सोशल मीडिया पर सक्रियता 

मोदी की लोकप्रियता में सोशल मीडिया का भी अहम स्थान है। सरकार के फैसलों और तमाम मुद्दों पर मोदी सोशल मीडिया पर लोगों से सीधा संवाद करते हैं। सोशल मीडिया पर देश का युवा सबसे ज्यादा सक्रिय है। फेसबुक, ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर मोदी दुनिया के सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेताओं में शामिल ह

 सरकार का रोडमैप : 5 ट्रिलियन डॉलर की होगी इकोनॉमी 

मोदी सरकार ने दूसरे कार्यकाल में अगले पांच साल का रोडमैप तैयार कर लिया है। सरकार अब अगले पांच साल के बनाए गए डेवलपमेंट रोडमैप पर आगे बढ़ रही है। सभी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए मोदी सरकार ने प्राथमिकता तय की है। मोदी सरकार ने वर्ष 2022 तक 1.95 करोड़ लोगों को अपना घर देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। मोदी सरकार का लक्ष्य है 'सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास'। इसी कड़ी में सरकार ने 2019-20 से 2021-22 की अवधि में प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत 1.95 करोड़ मकान प्रस्तावित किए हैं। वर्तमान में भारत विश्व की छठी अर्थव्यवस्था है। आगामी पांच सालों में 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था तक पहुंचने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

 सरकार का लक्ष्य 

  •  पांच साल का कार्यकाल पूरा करने से पहले सबको अपना आशियाना मिल जाए।
  • 2022 तक भारतीय स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर यह सुनिश्चित करेगी कि प्रत्येक ग्रामीण परिवार में बिजली का कनेक्शन हो। स्वच्छ  के लिए रसोई गैस की व्यवस्था हो। 
  • सरकार ने सभी ग्रामीण परिवारों को जल-जीवन मिशन के अंतर्गत 2024 तक पेय जल की सुविधा प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। 
  • नई शिक्षा नीति पर अनुसंधान केंद्र तैयार किया गया। राष्ट्रीय अनुसंधान प्रतिष्ठान का निर्माण किया जाएगा।
  • सरकार उच्च शिक्षा के लिए 400 करोड़ रुपए खर्च करेगी । 
  • सरकार का जोर रिफॉर्म, ट्रांसफॉर्म और परफॉर्म करने पर रहेगा।5 साल में इन पर होगा फोकस। 

 अमेरिकी अर्थव्यवस्था तक पहुंचने का लक्ष्य

5 साल में भारत की इकोनॉमी 5 ट्रिलियन डॉलर होगी। सरकार का लक्ष्य अमेरिकी अर्थव्यवस्था तक पहुंचना है। इस साल 3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनेगी।

रेल इंफ्रा के लिए 50 लाख करोड़ का खर्च

सागरमाला, भारतमाला और उड़ान योजना से लोगों को लाभ मिलेगा। आगामी 12 साल में सरकार रेल इंफ्रा के लिए 50 लाख करोड़ रुपए खर्च करेगी।

3 करोड़ खुदरा दुकानदारों को मिलेगी पेंशन

सरकार की योजना 3 करोड़ खुदरा दुकानदारों को पेंशन दिलाना है। इसमें 1.5 करोड़ के टर्नओवर वालों को भी पेंशन मिलेगी। दुकानदारों को योजना से सीधे जोड़ा जाएगा।

एफडीआई बढ़ाने पर सरकार का जोर

भारत को मोस्ट फेवरेट एफडीआई देश बनाने की पूरी तैयारी है। सिंगल ब्रांड रिटेल में एफडीआई बढ़ाने के साथ बीमा में 100% एफडीआई का इजाफा होग।

चंद्रयान और अंतरिक्ष शक्ति बना भारत

भारत एक बड़ी अंतरिक्ष शक्ति के रूप में उभरा है। अब समय आ गया है, जब भारतअपनी इस क्षमता का व्यापारिक रूप से उपयोग करें। सरकार स्पेस मिशन पर काम कर रही है।